ALL भीलवाड़ा हलचल प्रदेश हलचल देश हलचल चित्तौडग़ढ़ हलचल विदेश मध्यप्रदेश हलचल राजसमंद हलचल कारोबार मध्य प्रदेश राशिफल
भीलवाड़ा के साथ ही राजस्थान के कई जिलों में बारिश, ओले भी गिरे
November 15, 2020 • Raj Kumar Mali

भीलवाड़ा दिल्ली  हलचल भीलवाड़ा के साथी दिल्ली-एनसीआर के इलाके में रविवार की देर शाम बरसात हुई। इससे मौसम के तापमान और प्रदूषण के स्तर में गिरावट दर्ज की गई। हालांकि मौसम विभाग ने पहले ही ये अनुमान जताया था कि दीवाली के अगले दिन दिल्ली-एनसीआर के इलाके में हल्की बूंदाबांदी हो सकती है। इससे मौसम के तापमान में गिरावट होगी और वातावरण में फैले धूल के महीन कणों में भी गिरावट दर्ज की जाएगी। भीलवाड़ा में आज सुप्रभात आसमान पर बादल छा गए और रुक रुक कर परिवार बारिश हुई है जैसे मौसम में और ठंडक आ गई।

  राजस्थान में रविवार को मौसम पलटा और जयपुर तथा बारां जिलों में बारिश हुई। जयपुर में तेज हवा के साथ करीब आधा घंटा अच्छी बारिश हुई। इस दौरान शहर में कुछ स्थानों पर ओले भी गिरे। वहीं बारां के शाहबाद में सुबह करीब पांच बजे शुरू हुई बारिश रुक-रुक कर 11 बजे तक जारी रही। इससे गलियों बाजारों में पानी भर गया। यह बारिश फसलों के लिए अच्छी है। जयपुर में सुबह से ही बादल छाए हुए थे। दोपहर बाद मौसम पलटा और तेज हवा के साथ बारिश शुरू हुई। जयपुर के मानसरोवर, दुर्गापुरा, मालवीयनगर, सोडाला, सहकार मार्ग, बाइस गोदाम, सी स्कीम सिविल लाइन्स सहित बाहरी इलाकों तथा जयपुर जिले के कुछ कस्बों में भी बारिश हुई। बारिश ने चिंता बढ़ा दी है। प्रदेश में वैसे ही कोरोना का कहर है। सर्दी के मौसम में अचानक हुई बारिश ने प्रशासन और आम लोगों की चिंता बढ़ा दी है। बारिश से सर्दी-जुकाम के रोगी बढ़ेंगे। मौसम में उतार-चढ़ाव व स्वास्थ्य के प्रति लापरवाही से कोराना संक्रमितों की संख्या में बढ़ोतरी हो सकती है।

बारिश फसलों के लिए अच्छी लेकिन ओलों से नुकसान

मावठ फसलों के लिए अच्छी है। इस समय गेहूं, चने और सरसों की फसल के लिए मावठ अच्छी है, लेकिन ओलों से फसलों को नुकसान है। जो हवा बिना अवरोध के पहुंचती है और बारिश करती है, उले मावठ कहते हैं। बारिश से किसानों के चेहरों पर मुस्कान आ गई। फसल को सिंचाई के लिए अभी पानी नहीं देना पड़ेगा इससे पानी और डीजल दोनों की भी बचत होगी। मौसम विभाग ने रविवार को पूर्वी राजस्थान के कोटा, बारां, भरतपुर, अलवर, झुंझनूं, सीकर, सवाई माधोपुर, टोंक, धौलपुर तथा जयपुर जिलों में और पश्चिमी राजस्थान के हनुमानगढ़, चूरू, श्रीगंगानगर जिलों में कुछ स्थानों पर बारिश के साथ बादल गरजने का यलो अलर्ट जारी किया था। वहीं, प्रदेश में बीती रात तापमान में दो से तीन डिग्री तक की बढ़ोतरी हुई। राज्य के एकमात्र पर्वतीय स्थल माउंट आबू में बीती रात तापमान करीब दो डिग्री की बढ़ोतरी के साथ आठ डिग्री रहा। यहां बीती दो रातों से तापमान में बढ़ोतरी हो रही है। बाड़मेर में मामूली बढ़ोतरी के साथ तापमान 16.5, झुंझुनूं जिले के पिलानी में तीन डिग्री से अधिक की बढ़ोतरी के साथ तापमान 15.3 डिग्री रहा। वहीं, जहां एक रात पहले प्रदेश में रात को सबसे अधिक तापमान बाड़मेर में 16.5 डिग्री था, वहीं बीती रात 9 शहरों में तापमान 16 डिग्री से अधिक रहा। सबसे अधिक तापमान 19.5 डिग्री जयपुर में रहा। 

साथी दिल्ली-एनसीआर मौसम विभाग का अनुमान सही साबित हुआ। दीवाली के अगले दिन यानि 15 नवंबर की सुबह आसमान में धुंध छाई हुई थी। मगर शाम को हुई बरसात ने आसमान में छाई धुंध को साफ कर दिया और तापमान में भी गिरावट की। एनसीआर के भी कई हिस्सों में तेज बारिश हुई। सोनीपत में तो बरसात के साथ ओले भी गिरे। तेज हवाओं के साथ हुई बरसात के साथ क्षेत्र में ओलावृष्टि भी हुई है