ALL भीलवाड़ा हलचल प्रदेश हलचल देश हलचल चित्तौडग़ढ़ हलचल विदेश मध्यप्रदेश हलचल राजसमंद हलचल कारोबार मध्य प्रदेश राशिफल
हमीरगढ़ थाने के तत्कालीन दीवान व कांस्टेबल को चार-चार साल की कठोर कैद
November 12, 2020 • Raj Kumar Mali • भीलवाड़ा हलचल
 

 भीलवाड़ा प्रेमकुमार गढ़वाल/ अंकुर सनाढ्य। एसीबी कोर्ट ने गुरुवार को हमीरगढ़ थाने के तत्कालीन दीवान मोहनलाल रैगर व कांस्टेबल संपतलाल खटीक को चार-चार साल के कठोर कारावास व 31-31 हजार रुपये के अर्थदंड से दंडित किया है। बता दें कि दोनों ने 12 साल पहले एक व्यक्ति से चोरी का माल खरीदने संबंधित केस दर्ज नहीं करने की एवज में दस हजार रुपये की रिश्वत ली थी, जिन्हें एसीबी ने गिरफ्तार किया था। 
न्यायालय सूत्रों के अनुसार, आरोपित हैडकांस्टेबल मोहनलाल पुत्र मांगीलाल रैगर निवासी पंडेर व खातोला निवासी कांस्टेबल संपतलाल पुत्र भैंरूलाल खटीक वर्ष 2008 में हमीरगढ़ थाने में तैनात थे। इन दोनों के खिलाफ देबीलाल खटीक ने एसीबी में 17 सितंबर 2008 को शिकायत दी कि 15 दिन पहले कैलाश कीर व अशोक कीर उसके पास आये और कहा कि ये दो बेट्रियां वे, मजदूरी पेटे लाये हैं, जिन्हें अपने पास रख लो। इसके बाद 3-4 दिन पहले हमीरगढ़ थाने से कांस्टेबल संपत खटीक उसके पास आया और उसे थाने ले गया। जहां दीवान मोहन लाल ने तुमने चोरी की बैट्रियां अपने पास रखी है। चालान पेश होगा, जेल जाओगे। इससे बचना है तो 20 हजार रुपये खर्चा दे दो।
 परिवादी की इस शिकायत का एसीबी ने सत्यापन करवाया। इस दौरान दीवान दस हजार रुपये की मांग की। इसके बाद एसीबी ने ट्रेप की योजना तैयार कर तीन अक्टूबर को एसीबी ने परिवादी को रिश्वत राशि दस हजार रुपये देकर आरोपितों के पास भेजा। जहां हैडकांस्टेबल मोहन लाल ने दस हजार रुपये रिश्वत राशि प्राप्त कर जेब में रख ली। इसी दौरान वहां पहुंची एसीबी टीम ने हैडकांस्टेबल मोहन लाल रैगर व कांस्टेबल संपत खटीक को गिरफ्तार कर लिया था। एसीबी ने तफ्तीश के बाद दोनों के खिलाफ न्यायालय में चालान पेश किया। सुनवाई के बाद आज एसीबी कोर्ट ने हैडकांस्टेबल रैगर व कांस्टेबल खटीक को विभिन्न धाराओं के तहत चार साल की कठोर कैद व 31-31 हजार रुपये जुर्माने से दंडित किया।