ALL भीलवाड़ा हलचल प्रदेश हलचल देश हलचल चित्तौडग़ढ़ हलचल विदेश मध्यप्रदेश हलचल राजसमंद हलचल कारोबार मध्य प्रदेश राशिफल
महादेव कॉटन मिल को फर्जी तरीके से बैचने वाला प्रोपर्टी दलाल आंचलिया गिरफ्तार
October 30, 2020 • Raj Kumar Mali

भीलवाड़ा राजकुमार माली । भीलवाड़ा की महादेव कॉटन मिल और गंगरार की मनोहर कॉटन मिल की करोड़ों रुपये की जमीन की फर्जी रजिस्ट्री कराने के मामले में भीलवाड़ा पुलिस ने एक और आरोपित प्रोपर्टी दलाल प्रवीण आंचलिया को गिरफ्तार कर दो दिन रिमांड पर लिया है। वहीं एक अन्य आरोपित और खुद को जमीन का मालिक बताने वाला रतन लाल जाट दूसरी बार इस मामले में गिरफ्तार हो चुका है।
भीलवाड़ा की महादेव कॉटन मिल और गंगरार की मनोहर कॉटन मिल के मालिक दीपक मानसिंहका ने नवंबर 2019 में भीलवाड़ा के प्रताप नगर और गंगरार थाने में दोनों ही मिलों की फर्जी रजिस्ट्री कराने के मामले दर्ज करवाये थे। इस मामले में गंगरार थाना पुलिस और तहसीलदार द्वारा की गई जांच में रजिस्ट्री कराना फर्जी माना गया और तहसील के कुछ कर्मचारी भी इसमें लिप्त पाये गये। तहसीलदार की रिपोर्ट पर अपने-आप को जमीन का मालिक बताने वाले रतन जाट को कुछ समय पूर्व गंगरार पुलिस ने गिरफ्तार किया था। 
उधर, फर्जी रजिस्ट्री और पॉवर ऑफ अटॉर्नी के मामले में भीलवाड़ा के अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक गजेंद्रसिंह जौधा ने शास्त्रीनगर निवासी प्रोपर्टी दलाल प्रवीण आंचलिया को गिरफ्तार किया है। आंचलिया को आज पुलिस ने अदालत में पेश किया, जहां से उसे दो दिन पुलिस अभिरक्षा में भेजा गया है। पुलिस ने आंचलिया से जमीन बैचान को लेकर तैयार की गई पॉवर ऑफ अटॉर्नी संबंधित दस्तावेज बरामद कर लिये हैं। 
उल्लेखनीय है कि भीलवाड़ा की महादेव कॉटन मिल वर्षों से मानसिंहका परिवार के पास है, लेकिन जाट ने इसे बर्षों पूर्व अपने रिश्तेदारों द्वारा खरीदने की बात कही है और जमीन की दूसरे के नाम रजिस्ट्री करवा दी। करोंड़ों रुपयों की जमीन खरीदने का दावा करने वाले इस परिवार के कुछ लोगों का नाता संगीन अपराधों से भी रहा है। इस मामले में जाट परिवार की कुछ महिलायें भी आरोपित बनाई गई है, जिनकी गिरफ्तारी अभी होनी है। 
खास बात यह है कि इस मामले की जांच कई अधिकारियों के हाथों से निकली है, लेकिन यह मामला कुछ बड़े सफेदपॉश लोगों और भूमाफियाओं के कारण अटकता रहा। इसके बाद मामला सीएमओ तक गया। इसके बाद उदयपुर आईजी को जांच दी गई। लेकिन आरोपित गिरफ्तार नहीं हो पाये। इसके चलते फिर जांच बदल कर भीलवाड़ा के अतिरिक्त पुलिस को सौंपी गई थी। अब जाकर इस मामले में करोड़ों रुपयों की जमीन को हड़पने की साजिश करने वाले प्रोपर्टी दलाल आंचलिया को गिरफ््तार कर लिया गया, जबकि रतन जाट पूर्व में गिरफ्तार हो चुका है।