ALL भीलवाड़ा हलचल प्रदेश हलचल देश हलचल चित्तौडग़ढ़ हलचल विदेश मध्यप्रदेश हलचल राजसमंद हलचल कारोबार मध्य प्रदेश राशिफल
फिर कहर बरपा सकता है कोरोना वायरस, अगले 3 माह चुनौतीपूर्ण: गहलोत
November 11, 2020 • Raj Kumar Mali • प्रदेश हलचल

 

जयपुर। मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने कहा कि विदेशों की तरह हमारे देश में भी संक्रमण बढ़ने की आशंका है। ऐसे में अधिकारी सभी जिलों में पहले से ही बेहतर प्रबंधन कर लें। पड़ोसी राज्यों से आने वाले मरीजों के उपचार में कोई कमी नहीं रखें।

गहलोत मंगलवार को मुख्यमंत्री निवास पर वीडियो कांफ्रेंस में राजधानी से लेकर ब्लॉक स्तर तक कोविड-19 की समीक्षा कर रहे थे। करीब 3 घंटे चली वीसी में सीएम ने कहा कि त्योहारी सीजन, सर्दी व प्रदूषण के कारण अगले तीन माह चुनौतीपूर्ण हो सकते हैं।

गहलोत ने कहा कि अमरीका के नए राष्ट्रपति ने शपथ लेते ही मास्क को अनिवार्य रूप से लागू करने की बात कही। जबकि राजस्थान देश का ऐसा पहला राज्य है, जिसने मास्क के लिए जनआंदोलन प्रारंभ किया है। मास्क की अनिवार्यता के लिए कानून भी लाया गया है।

बैठक में बताया गया कि राज्य में अब तक संक्रमण की दर 5.47 प्रतिशत रही है, जबकि राष्ट्रीय औसत 7.18 प्रतिशत है। वर्तमान में कोरोना से मृत्युदर प्रदेश में 0.94 प्रतिशत है, जबकि राष्ट्रीय स्तर पर यह 1.48 प्रतिशत है।

चिकित्सा एवं स्वास्थ्य मंत्री डॉ. रघु शर्मा ने कहा कि 2000 चिकित्सकों की भर्ती प्रक्रिया जल्द पूरी हो जाएगी। इससे चिकित्सकों की कमी काफी हद तक पूरी हो सकेगी। चिकित्सा एवं स्वास्थ्य राज्यमंत्री डॉ. सुभाष गर्ग ने कहा कि अधिकारी जिला मुख्यालय स्तर के अस्पतालों का दौरा कर कोरोना संक्रमण के खिलाफ लड़ाई में अहम भूमिका निभा रहे चिकित्सकों एवं पैरामेडिकल स्टाफ का मनोबल बढ़ाएं।

मुख्य सचिव निरंजन आर्य ने कहा कि कोरोना संक्रमण अभी भी बरकरार है। ऐसे में किसी भी तरह की लापरवाही नहीं बरतें। पुलिस महानिदेशक एम.एल. लाठर ने कहा कि त्योहारी सीजन में हेल्थ प्रोटोकॉल की पालना के लिए आमजन को जागरूक करना होगा। शासन सचिव चिकित्सा एवं स्वास्थ्य सिद्धार्थ महाजन ने प्रस्तुतीकरण देते हुए बताया कि प्रदेश में कोरोना की स्थिति फिलहाल नियंत्रण में है।

राजस्थान स्वास्थ्य विज्ञान विश्वविद्यालय के कुलपति डॉ. राजाबाबू पंवार ने बताया कि संक्रमण रोकने में मास्क बेहद कारगर है। सवाई मानसिंह मेडिकल कॉलेज के प्राचार्य डॉ. सुधीर भंडारी ने कहा कि कोरोना जांच नेगेटिव आने के बावजूद सिरदर्द, खांसी, जुकाम, वायरल फीवर आदि लक्षण हों तो चिकित्सक से आवश्यक रूप से परामर्श लें। विशेषज्ञ डॉ. वीरेन्द्र सिंह ने कहा कि सर्दी के मौसम और प्रदूषण के कारण संक्रमण बढ़ सकता है। ऐसे में मास्क अनिवार्य रूप से लगाएं।