ALL भीलवाड़ा हलचल प्रदेश हलचल देश हलचल चित्तौडग़ढ़ हलचल विदेश मध्यप्रदेश हलचल राजसमंद हलचल कारोबार मध्य प्रदेश राशिफल
साइको किलर: रात के अंधेरे में निकलता था...अकेले में जो भी मिलता कर देता था कत्ल
November 19, 2020 • Raj Kumar Mali • मध्यप्रदेश हलचल
 

प्रयागराज
इस साइको किलर के कत्ल का तरीका जानकर आपके भी रोंगटे खड़े हो जाएंगे। वह रात के अंधेरे में घास काटने वाला हसिया और डंडा लेकर निकलता था। उसे इंतजार रहता था किसी ऐसे शख्स का जो बिल्कुल अकेला हो। सुनसान राह पर वह जिस किसी को भी अकेला पाता था, उसकी हसिया और डंडों से हमला करके जान ले लेता था। यूपी की प्रयागराज पुलिस ने एक साइको किलर को गिरफ्तार किया है।

प्रयागराज की कीडगंज पुलिस ने साइको किलर से जब कड़ाई से पूछताछ की तो उसने तीन कत्ल करने का जुर्म कबूल किया है। वारदात का तरीका जानकर पुलिस भी एकबारगी हैरान रह गई। एक हफ्ते के अंदर इस साइको किलर ने तीन लोगों की जान ले ली।

दो दिन में दो कत्ल
पुलिस के हत्थे चढ़ा आरोपी साइको किलर रमेश पासी प्रयागराज के थाना लालापुर का रहने वाला है। 4 नवंबर को बुजुर्ग महिला का कत्ल करने के बाद वह फरार हो गया। इसके बाद साइको किलर ने लागतार 10 और 11 नवंबर को दो लोगों का बहुत ही बेरहमी से कत्ल कर दिया। दोनों वारदातें शंकरगढ़ इलाके में रात के अंधेरे में अंजाम दी गईं। इस बार भी कत्ल करने का तरीका एक ही था। पहले दिन आरोपी रमेश ने दिनेश नाम के शख्स का कत्ल किया। दूसरे दिन सुबह एक और कत्ल करने के लिए वह शंकरगढ़ में ही रुक गया। दूसरी हत्या को अंजाम देने के बाद वह शंकरगढ़ छोड़कर फरार हो गया।

मोबाइल ने खोला साइको किलर का राज
तीन कत्ल का राज खोलने में पुलिस जुट गई। रमेश ने शंकरगढ़ के रहने वाले दिनेश का कत्ल करने के बाद उसका मोबाइल छीन लिया था। पुलिस लगातार इस मोबाइल को ट्रेस कर रही थी और उसका लोकेशन प्रयागराज के कीडगंज इलाके का बता रहा था। आखिरकार पुलिस ने साइको किलर रमेश पासी को कीडगंज इलाके से गिरफ्तार कर ही लिया।

साइको किलर रमेश का जीवन पहले सामान्य था। पिता की मौत के बाद उसकी मां ने दूसरी शादी कर ली। उसकी एक छोटी बहन को मां अपने साथ लेकर चली गई। इसके बाद रमेश परिवार से अलग-थलग पड़ गया। उसने समाज में लोगों से दूरी बना ली। समाज के हर आदमी को वह अपना दुश्मन समझने लगा। रमेश में आपराधिक प्रवृत्ति आ गई। इसके बाद किसी को भी अकेले में पाकर उसके दिमाग में जान लेने की बात आने लगी।