ALL भीलवाड़ा हलचल प्रदेश हलचल देश हलचल चित्तौडग़ढ़ हलचल विदेश मध्यप्रदेश हलचल राजसमंद हलचल कारोबार मध्य प्रदेश राशिफल
सेल्फ ड्राइविंग कार की दिशा में देश ने बढ़ाया कदम,
November 7, 2020 • Raj Kumar Mali • कारोबार

 आपको इसी साल फरवरी में ग्रेटर नोएडा में आयोजित हुआ ऑटो एक्सपो तो याद ही होगा, जिसमें टेस्ला कंपनी ने सेल्फ ड्राइविंग कार यानी स्वचालित कार पेश की थी। कार प्रेमियों में इसको लेकर कौतूहल भी था कि आखिर यहां सड़कों पर यह कार कब दिखेगी? अब वह समय नजदीक आ रहा है। अगले साल होने वाले सेल्फ ड्राइविंग कार परीक्षण से पहले एडवांस लेवल टेलीकॉम टेस्टिंग सेंटर (Advanced Level Telecom Testing Center) ने इसके लिए इंजीनियरों को सुरक्षित नेटवर्किंग पर प्रशिक्षण दिया है। यमुना एक्सप्रेस-वे और बांद्रा-वर्ली सी लिंक पर अगले साल स्वचालित कार का परीक्षण किया जाना है।

नेटवर्क में नहीं हो पाएगी घुसपैठ

इसके लिए तेज गति के 5जी इंटरनेट की जरूरत होगी। हैकर घुसपैठ कर हादसा करा सकते हैं। एमके सेठ के मुताबिक, नेटवर्क की इसी कड़ी सुरक्षा के लिए इंजीनियरों को प्रशिक्षण दिया गया है। इसके सिग्नल की भी लगातार मॉनिटरिंग की जाएगी। यह परीक्षण एक्सप्रेस-वे पर एक लाइन आरक्षित कर किया जाएगा, ताकि ट्रैफिक संचालन में बाधा नहीं आएगी ।

 

खूबियां

  • सेल्फ ड्राइविंग कार भविष्य में ड्राइविंग का नया आयाम है। कार में बैठा व्यक्ति सो सकता है, लैपटॉप पर आराम से काम कर सकता है और यह ध्यान देने की भी जरूरत नहीं होगी कि कब कहां रुकना है, क्योंकि कार गंतव्य पर जाकर खुद रुक जाएगी।
  • कार की छत पर खास मशीन लगी होती है, जो कार के आसपास 3डी मैप तैयार करती है।
  • कार में लगे तमाम कैमरे और सेंसर लगे होते हैं, जिनके जरिये आसपास मौजूद वाहन, पैदल यात्री, अचानक आई भीड़ और अन्य दूसरी चीजों पर तकनीक की नजर बनी रहती है।

एक्सप्रेस-वे के किनारे बिछेगी 5जी नेटवर्क की लाइन

एएलटीटीसी के सहायक निदेशक कृष्णा कुमार यादव के मुताबिक, अगले साल भारत में 5जी सेवा आ जाने के बाद यमुना एक्सप्रेस-वे और बांद्रा-वर्ली सी लिंक के किनारे फाइबर की 5जी इंटरनेट नेटवर्क लाइन बिछाई जाएगी, ताकि सेल्फ ड्राइविंग कार का परीक्षण किया जा सके। इसके लिए मर्सिडीज बेंज कार का चयन किया गया है। उसके बाद आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस डिवाइस लगी हुई कार भी बाजार में आ जाएंगी। एएलटीटीसी के मुख्य महाप्रबंधक एमके सेठ के मुताबिक, परीक्षण के चार साल बाद यानी 2025 तक हमारे देश में यह कार चलने लगेगी। करीब 12 लाख रुपये में लग्जरी कार में सेल्फ ड्राइविंग का सिस्टम लगवाया जा सकेगा।